fastag full form kya hai

fastag ka full form kya hai?kyun jaruri hai fastag?

fastag kya hai?और fastag ka full form kya hai?यह जानने केलिए इस लेख को ध्यान से पढ़ें क्यों की 15 February रात के 12 बजह से यह तकनीक देशभर के हर एक जातीय राजपथ में मोह्जुद toll gate पे लग चूका है।

आप लोगों को पता चल गया होगा की 15 फरवरी से अगर आपकी vehicle किसी National highways से गुजरता है तोह  आपको  Fastag अपनी windscreen पे लगाना अनिवार्य है।ऐसा ना  करने पर आपको बड़ी मात्रा में जुरमाना लग सकता है। इसीलिए साबधान हो जाइये अगर आपकी वहां किसी national highways पे गुजरता हे तोह fastag बेहद जरुरी है।

Fastag ka fullform kya hai?

Fastag, NHAI (National Highway Authority of India)  के द्वारा जारी किया हुआ एक  इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम(electronic toll collection system) है जो आपके वाहन की विंडस्क्रीन(wind screen) पर  लगाया जायेगा।

इससे रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (Radio frequency identification)(RFID) तकनीक का इस्तेमाल होता है जिसे आप बड़ी आसानीसे बिना नगद दिए टोल गेट पे टोल पेमेंट करसकते हो। Fastag से जुड़े अपनी prepaid account से टोल पेमेंट हो जाता है जब आप किसी टोल गेट क्रॉस करते हो।

fastag kya hai or kaise kam karta hai?

जैसे ही आप अपनी wind screen पे fastag को लगाते  हो तब आपको toll plaza में होनेवाली तकलीफ से मुक्त हो जाते हो। फास्टैग आपके काम को और आसान बना देता है। चलो  कैसे फास्टैग काम करता है ?

जब आपकी वाहन  टोल प्लाजा से गुजरती है, तो उसवक्त टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपके फास्टैग को scan /track कर लेता है जो आपके वाहन के विंडस्क्रीन पर लगा होता है।उसी फास्टैग के मदत से toll gate  पर देने वाला payment automatic कट जाता है आपके fastag account से।

इस तरह आप फास्टैग के  मदत से toll gate पर बिना रुके और बिना नगद (cash) का payment करके जतायात  कर सकते हो। आपके वाहन में लगा यह fastag  आपके prepaid account से connect रहता। जब आपकी अकाउंट में पैसे ख़तम हो जाता है तब आपको आपकी fastag prepaid account को recharge करवाना पड़ता है।

हमें फास्टैग का उपयोग क्यों करना चाहिए(why we should use fastag)

जैसा कि आप जानते हैं कि भारत एक बड़ा देश है और इसकी आबादी भी दिन पर दिन बढ़ती जा रही है। इसलिए ट्रैफिक की समस्या भी तेजी से बढ़ रही है। जब राष्ट्रीय राजमार्गों की बात आती है, तो राष्ट्रीय राजमार्गों पर वाहन चलाते समय टोल टैक्स का भुगतान करने में इसकी अधिक परेशानी होती है। लेकिन हम टोल प्लाजा पर असीमित ट्रैफिक जाम का सामना करते हैं, क्योंकि हम सड़क कर का भुगतान नकद के रूप में करने के उसी पारंपरिक तरीके का पालन करते हैं।

इन्हे भी पढ़ें

fastag ka full form kya hai or iske benefits

1.जब आप फास्टैग का उपयोग करके टोल प्लाजा को पार करते हैं तो आप ईंधन और अपना बहुमूल्य समय बचा सकते हैं।

2.आपको टोल गेट पर भुगतान के लिए नकदी ले जाने की जरूरत नहीं है।

3.आप किसी विशेष टोल प्लाजा के लिए मासिक पास का उपयोग कर सकते हैं।

4.फास्टैग के जरिये toll tax भुगतान में आसानी होती हे क्यों की manual payment से होनेवाली दिक्कत से राहत मिलता है।

5.fastag को इस्तेमाल करने से समय की बचत होती है क्यों की टोल प्लाजा में होने वाली लम्बी कतार से छुटकारा मिलता है।

6.अपने fastag account में easy recharge करसकते हो किसी भी ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से। जैसे की NEFT /IMPS /POS इत्यादि।

7.आप बड़ी आसानी से अपनी लेनदेन की सारे details अपनी phone पे sms  द्वारा प्राप्त कर सकते हो।

FASTag को कैसे और कहाँ से  खरीदें ?

चलो जानते हैं की  कैसे आप  FASTag को खरीद सकते हैं। FASTag को खरीदने  के लिए आपको निचे दिए गए बिकल्प को follow कर सकते हो।

•ऑनलाइन आप किसी भी bank से FASTag खरीद सकते हैं और चाहों तोह नजदीक किसी bank के शाखा से ले सकते हो। इसकी पूरी जानकारी निचे दी गयी है।

• Fastag को आप बड़ी आसानी से किसी भी toll plaza से खरीद सकते हो। इसके लिए आपको rgistration और kyc के लिए जरुरी documents को submit करना पड़ेगा। 

• किसी भी E commerse की portal से अपनी वाहन के लिए FASTag खरीद  सकते हो।

Fastag banwane keliye jaruri documents kya hai?

फास्टैग बनवाने के लिए vehicle owners को निचे दिए गए  documents की जरुरत पड़ेगी। चलो जानते हैं की कौनसी documents चाहिए fastag बनवाने के लिए।

1.गाड़ी का Registration certificate (RC Book)

2.Vehicle owners का पैन कार्ड(PAN Card)

3.आधार कार्ड(Adhar Card)

4.Owner का Passport size photo

Fastag online apply kaise karen? (FASTAG ONLINE APPLY)

1.Fastag online apply करने के लिए बैंको  के  fastag application website पे जाना होगा |  यहाँ पे आप fastag के लिए  prepaid account  खोल सकते हैं।इस के लिए आपका निजी account उसी  bank में होना जरुरी  नहीं है |

 2.FASTag के एप्लिकेशन को click करने के वाद आपको अपना नाम(name), पता(address), जन्मतिथि(date of birth), मोबाइल नंबर(mobile number), ईमेल आईडी(E mail ID) की जानकारी देनी होगी |

 3.इन documents के बाद आपको KYC की documents के विवरण देना होगा।  इसके लिए आपको किसीभी एक document proof देना होगा, जैसे की ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, पासपोर्ट, मतदाता पहचान पत्र, या आधार कार्ड।

 4.इसके वाद आपको अपनी vehicle (वाहन) registration की विवरण यानि registration certificate(RC) के number को भरना होगा |

 5.अब अपको सभी documents की scanned copy को उसी portal में upload करना होगा | vehicle owner का एक passport size photo भी scan करके upload करना पड़ेगा।

 6.सभी documents upload होने के वाद अपने application को submit करना होगा | इसे  करने के बाद आपका fastag account बन जायेगा | इस अकाउंट को आप online या Fastag app के जरिये access कर सकते हैं |

7.अपने Fastag account को recharge क्रेडिट कार्ड(Credit Card)/डेबिट कार्ड(Debit card)/ एनईएफटी(NEFT) / आरटीजीएस(RTGS) या नेट बैंकिंग (Net banking) के माध्यम से recharge कर सकते है |

कौन सी बैंक fastag provide करता है ?

बहत सारे बैंक्स है जो आपको फास्टैग प्रदान करने में मदत करते हैं ।लगभग हर बैंक फास्टैग प्रदान करता है चलो जानते हैं।

ICICI Bank
PayTm Payments Bank
IDFC FIRST Bank
SBI Bank
HDFC Bank
Axis Bank
Equitas Bank
KVB Bank
Kotak Mahindra Bank
YES Bank
Bank of Baroda
City Union Bank
Federal Bank
South Indian Bank
IndusInd Bank
Saraswat Coop Bank
Airtel Payments Bank
Syndicate Bank
PNB Bank
Nagpur Nagarik Coop Bank
Union Bank
Fino Payments Bank
Canara Bank

Fastag full form in Hindi and Faqs

क्या two wheeler  के लिए fastag जरुरी है ?

बिलकुल नहीं,अभीतक two  wheelers  के लिए Fastag जारी नहीं किया गया है।यह सुबिधा केवल four wheelers और उससे अधिक के लिए उपलब्ध है।

क्या एक fastag का इस्तेमाल दो गाड़ी में कर सकते हैं ?

नहीं, आप यह नहीं कर सकते। हर एक वाहन के लिए आपको अलग अलग fastag लेना होगा। पर आपका एक ही प्रीपेड अकाउंट से दोनों का काम हो सकता है। इसकेलिए अलग से अकाउंट बनाना जरुरत नहीं है।

Fastag damage  हो जाए तो क्या करें ?

यदि Fastag damage हो जाता है, तो आपको अपनी फास्टैग जारी करनेवाला bank से संपर्क करना होगा और replacement के लिए आबेदन करना पड़ेगा। 

मैं अपनी कार को बेच दूँ तोह मुझे क्या करना चाहिए ?

अगर आप गाड़ी बेच देते हो तोह आपको बैंक से संपर्क करके आपका फास्टैग अकाउंट को बंद कराना पड़ेगा।

Fastag की validity क्या है ??

बैंक से जारी किया हुआ Fastag की validity 5 साल का होता है। एक बार फास्टैग अकाउंट बन गया तोह उसे केवल मोबाइल की तरह recharge या top up कराना होता है।

Fastag बनाने केलिए कितना charge लगता है ?

भारत सरकार के guidelines के अनुसार Fastag पर केवल 100 / – रुपये का खर्च आता है।पर ऐसे कुछ बैंक हे जो फास्टैग पर कोई भी शुल्क नहीं लेता।  इसे वाहन चालोंको को मुफ्त में भी  दे रहे हैं।

फास्टैग की call center का नंबर क्या है ?

Fastag की call center का नंबर 1033 है।

Conclusion(निष्कर्ष)

चलो यहाँ पे हमारा आज का यह topic fastag kya hai?और fastag ka full form kya hai?को समाप्त करते हैं। आशा करताहूँ की आज आपको फास्टैग के बारेमें सारि जानकारी मिलगई होगी। जैसे फास्टैग क्या है और क्या है fastag का full form?अगर मेरी यह लेख आपको पसंद आयी होगी तोह कृपया अपने दोस्तों के साथ शेयर करें ताकि दूसरों तक इसकी जानकारी पहुँच सके। धन्यवाद्।

1 thought on “fastag ka full form kya hai?kyun jaruri hai fastag?”

  1. Pingback: MLM ka full form kya hai?Paisa kamane ka Ramban tarika - Hindihe

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *