Overdraft protection kya hai

Overdraft protection kya hai?|overdraft protection meaning?

Overdraft protection kya hai? क्या है overdraft protection meaning?क्यूँ करनी चाहिए Overdraft protection? अगर ये सब सवाल आपके मनमे है तो इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें .इस आर्टिकल में हम लोग Overdraft protection के बारेमे सारी जानकारी देनेवाले हें .जेसे की Overdraft protection kya hai? क्यूँ हमें Overdraft protection लेनी चाहिए? और कैसे हम Overdraft protection का लाभ उठा सके .

Overdraft protection kya hai puri jankari

ओवरड्राफ्ट प्रोटेक्शन बैंकों द्वारा प्रदान किये जानेवाला एक सेवा है जो स्वचालित रूप से आप की एक बैंक खाते से दूसरे बैंक खाते में money transfer करतीहै ताकि आपको overdraft charges बैंक को देनी न पड़े। overdraft charges उस्वक़्त लागु किया जाता है जब आप की खाते में अपर्याप्त धन हो और आप अनजाने में उसे अधिक धन को निकाल लिए हो। ये सुबिधा आपकी savings accounts, checking accounts और क्रेडिट कार्ड्स में लागु होती है।

इसके(Overdraft protection) के जरिये आप अपनी बैंक अकाउंट की निम्न राशि यानि शून्य से नीचे कोई लेनदेन नहीं कर सकते। इस बजह से आपको देनेवाली ओवरड्राफ्ट फीस से बच सकते हो। ये बिकल्प आपकी चेक, क्रेडिट  और  डेबिट कार्ड के साथ किसीभी प्रकार के  इलेक्ट्रॉनिक हस्तांतरण पर लागु होता है ताकि आपको ओवरड्राफ्ट फीस देनी न पड़े।

पहले, बैंक खाता खोले जाने के समय ओवरड्राफ्ट प्रोटेक्शन बैंको द्वारा स्वचालित रूप से लागू किया जाता था और बैंक  इसके लिए आपसे कुछ फीस भी लेते थे। पर अब बैंक ऐसा नहीं करती। ये सेवा को लागु करने के लिए आपकी मंजूरी जरुरी है।

Overdraft protection meaning Hindi me?

ओवरड्राफ्ट प्रोटेक्शन को Overdraft coverage भी कहा जाता है। बैंक और क्रेडिट यूनियन इस overdraft protection सेवा को हर एक खाता धारक को उनकी अनुमति से मुहैया करता है। जब आप overdraft protection को चुनते हो तब बैंक आपकी लेन-देन को कवर करने के लिए उस खाते एक दूसरे खाते से लिंक किया जाता है। यानि जबभी चेकिंग अकाउंट से धन राशि शुन्य होता है तब लिंक किये गए अकाउंट का इस्तेमाल होता है ओवरड्राफ्ट शुल्क से बचने के लिए।

इन्हे भी पढ़ें –

  1. Jiomeet क्या है?what isjiomeet inHindi?
  2. Yaari reselling app क्या है और कैसे इस्तेमाल करें?

Overdraft protection example

चलो एक उदाहरण से समझते हैं की क्या है ओवरड्राफ्ट प्रोटेक्शन फीस। अगर आपके बैंक खाते में Rs 8000  है पर आपसे अनजाने में Rs 10000 का लेनदेन हो गया है। यानि आप Rs 2000 ज्यादा लेनदेन कर लिए हो, तो इस दशा में बैंक आपसे  कुछ फीस लेता है जिसे ओवरड्राफ्ट फीस या ओवरड्राफ्ट बैलेंस फीस कहा जाता है। प्रत्येक बैंक अपने हिसाबसे ओवरड्राफ्ट बैलेंस फीस खाता धारकों के लिए तय करता है।

Overdraft protection plan kiske liye hai ?

ओवरड्राफ्ट प्रटेक्शन प्लान सबके लिए नहीं है। अगर आप बिना देखे आपकी अकाउंट से लेनदेन करते हो या आपकी चेक अक्सर बाउंस होता है तो आपको को ओवरड्राफ्ट प्रटेक्शन प्लान लेना जरुरी है। इसे आपको ओवरड्राफ्ट फीस बैंक को देना नहीं पड़ता। हालांकि ओवरड्राफ्ट प्रोटेक्शन प्लान के लिए बैंक आपसे कुछ फीस चार्ज करता है पर वो ओवरड्राफ्ट फीस से बहत कम होती है।

इन्हे भी पढ़ें –

  1. Zoom background kaise badle?
  2. Classplus app kya hai?

Overdraft fees se kaise bache?

ओवरड्राफ्ट फीस से बचने के लिए हर एक खता धारक को कुछ चीज़ों का ध्यान रखना जरुरी है। हर समय ये सुनिश्चित करें की आपकी अकाउंट में पर्याप्त बैलेंस हो। अगर कभी भी आपकी अकाउंट में minimum balance से कम धन राशि हो तो लेनदेन न करें और जल्द से जल्द minimum balance money जमा करें। इस बजह से  नियमित अपनी बैलेंस को check और maintain करें। अगर आप auto pay के जरिये हर महीने किसी bill (EMI)की भुगतान करते हो तो ये ध्यान में रखे की आपकी खाते में उस bill को कवर करने के लिए पर्याप्त धन राशि की नहीं।

Overdraft protection plan pros और Cons

Pros

  1. ओवरड्राफ्ट प्रोटेक्शन प्लान से आप आपकी खाते से लेन-देन कर सकते हो बावजूद आपके चेकिंग अकाउंट  में पर्याप्त धन राशि हो न हो।
  2. इस सुबिधा से आपका चेक बिना किसी दिक्कत के clear हो जायेगा।
  3. इसके अलावा आप एटीएम से नगद राशि उठा सकते हो और डेबिट या क्रेडिट कार्ड से लेनदेन कर सकते हो।

Cons

  1. ओवरड्राफ्ट प्रोटेक्शन प्लान में आपको एक फीस अपने बैंक को देना पड़ेगा।
  2. अगर आपके बैकअप अकाउंट में भी बैलेंस कम है तो लेनदेन की प्रक्रिया में दिक्कत होगी।

इन्हे भी पढ़ें –

Quillbot kya hai?

निष्कर्ष – Overdraft protection kya hai?

Overdraft protection एक ऐसी सेवा है जो ओवरड्राफ्ट शुल्क का भुगतान करने से हमको बचता है।आप ओवरड्राफ्ट प्रोटेक्शन को लेना चाहते हे या नहीं ये आपके ऊपर निर्भर करता है। आप खुद तय करें की क्या आपके लिए ओवरड्राफ्ट प्रोटेक्शन एक सही बिकल्प है या नहीं।

यहाँ पे आज हमारा ये टॉपिक Overdraft protection kya hai? को समाप्त करते हैं। आशा है की आज आपको कुछ नया और अलग सिखने को मिला होगा।अगर इस पोस्ट के संबधित कोई सुझाब है तो कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट करना और अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर करना। धन्यवाद्।

FAQs-Overdraft protection kya hai?

ओवरड्राफ्ट प्रोटेक्शन क्या है ?

Overdraft protection एक सेवा है जो बैंको द्वारा अपने ग्राहक को प्रदान की जाती है जिसे चेकिंग खाते में NSF (Non-Sufficient Fund )के होते लिंक किए गए खाते से धनराशि स्वचालित रूप से लेनदेन प्रक्रिया को कायम रखता है ताकि ओवरड्राफ्ट फीस देनी न पड़े।

क्या ओवरड्राफ्ट प्रोटेक्शन की आवश्यकता है?

आपको ओवरड्राफ्ट सुरक्षा की आवश्यकता है या नहीं, इसका जवाब आप पर निर्भर करता है की कैसे आप अपनी अकाउंट को मैनेज करते हो। अगर आप बार बार ओवरड्राफ्ट करते हो तो जाहिर है आपको ओवरड्राफ्ट प्रोटेक्शन लेनी चाहिए ओवरड्राफ्ट फीस से बचने के लिए।

ओवरड्राफ्ट प्रोटेक्शन फीस

ओवरड्राफ्ट प्रोटेक्शन सेवा मुफ़्त नहीं होती।ये आपकी बैंक के टर्म्स एंड कंडीशन पर निर्भर करता है। हर एक बैंक का अलग अलग ओवरड्राफ्ट प्रोटेक्शन फीस और ब्याज होता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *