RFID ka full form kya hai

RFID ka full form kya hai?kaise kam karta hai ?

क्या आप जानना चाहते हैं की RFID kya hai और RFID ka full form kya hai?तोह आप बिलकुल सही जगह पे आये हो। आज हम इस article के माध्यम से जानने की कोसिस करेंगे की RFID ka full form kya hai?और यह RFID कैसे काम करता है।

RFID ka full form kya hai hindi me?

RFID का full form Radio frequency identification (RFID)रेडियो आबृत्ति पहचान होता है। यह एक wireless system है जो विद्युत चुम्बकीय क्षेत्रों का प्रयोग करके वस्तुओं को पहचानने और उसे track करने के लिए उपयोग किया जाता है।  जिसमें दो components  होते हैं: जैसे टैग(tag) और दूसरा रीडर(reader)

Reader एक उपकरण है जिसमें एक या उसे अधिक antenna होते हैं जो radio wave generate करता है और RFID tag से signal को receive करता है।

RFID ka full form kya hai और RFID ka kya kam hai ?

Radio frequency identification (RFID) एक communication system है जो ट्रांसमीटर या ट्रांसपोंडर या टैग और रीडर के बीच काम करता है यह system पूरी तरह से automatic होती है जिसकी बजह से आप बहत सरे काम बड़ी आसानीसे कर सकते हो।

RFID विद्युत चुम्बकीय क्षेत्रों का प्रयोग करके वस्तुओं को पहचानने और उसे track करने के लिए उपयोग किया जाता है। अभी के समय में RFID तकनीक को retail store, air transport ,medicine और health care में बड़ी मात्रा में इस्तेमाल हो रहा है।

आप जान चुके हैं की RFID एक automatic communication system है जिसे आप वस्तुओं(goods), दवाओं(medicines), वाहनों(vehicle) या जीवित प्राणियों (living  beings) के साथ communicate कर सकते हो वह भी उनके पास जाये बगैर।

RFID ka matlab kya hota hai?

RFID का मतलब Radio-frequency identification है, जो RFID tag से सारि information को RFID Reader तक send करता है। इस कार्य को करने के लिए RFID को radio waves (रेडियो तरंगे )का उपयोग करना पड़ता है।

इस RFID tag में एक sensor होता है जो एक एंटीना (antenna) से जुड़ा होता है। antenna के माध्यम से data या information Reader तक transmit होता है।  हर एक sensor में एक identifier  होता है जिसको scan करके reader tags से information collect करता है।

हर एक sensor का identifier unique होता है।   Reader एक साथ 100 से अधिक tags को scan करके उसमे से data निकाल सकता है।

इस radio-frequency identification प्रक्रिया के द्वारा  human errors को दूर करने के साथ समय और संसाधनों का बचत करता है।

RFID kaise kam karta hai?

बिस्तार से समझे तोह RFID एक group of technology हे जिसे AIDC कहा जाता है। AIDC का full form  होता है Automatic Identification and Data Capture।इस technology से product पे लगा tag से data को automatic collect करके कंप्यूटर में store किया जाता है। इसमें human efforts ना के बराबर होता है।

इस प्रक्रिया में रेडियो तरंगों(radio waves) का उपयोग होता है। RFID technology में इस्तेमाल किये जाने वाला प्रमुख components में एक RFID tag  एक RFID reader और एक antenna होता है।

इस RFID टैग में एक integrated circuit और antenna होता है, जो RFID reader तक data को transmit करता है radio waves के जरिये। उसके बाद reader उस radio waves को usable data में convert करके computer तक पहुंचता है। data उस कंप्यूटर में save होने के बाद हम जब चाहें उस data को analyze कर सकते हैं।

RFID तकनीक का आविष्कार कब और किसने किया था ?

चार्ल्स वाल्टन(Charles Walton) ने 1983 में RFID का आविष्कार किया था। Charles Walton ने ही ‘RFID’को अबिष्कार और इस शब्द को patent भी किया था। 

Advantages of RFID(RFID के लाभ क्या है?)

  1. RFID technology सारे डाटा को automatic collect करने के साथ human effort को कम करता है है जिसे error(त्रुटि) कम होती है। 
  2. इस technology के द्वारा आइटम-बाय-आइटम scan करने की जरुरत नहीं पड़ती। 
  3. ये बहुत सारे tags को एक साथ बिना किसी लाइन-ऑफ-विजन(line of vision) से read कर सकती है जिसे समय की बचत होता है।

Bar-coding kya hai ?

Bar-coding में product और item के ऊपर लगा हुआ tag को scan करने के लिए एक beam of light और laser light का इस्तेमाल होता है। Reader और scanner टैग पे लगा हुआ सफ़ेद और काली पट्टी को read करता है।

Reader में लगा हुआ sensor एक signal generate करता है जिसे एक decoder उस signal को text format में कंप्यूटर तक भेजता है। इस टेक्नोलॉजी में लाइन ऑफ़ विज़न की जरुरत होती है। जिसका मतलब यह है की टैग और scanner एक सरल रेखा या line में होनी चाहिए।

सबसे खास बात bar-coding में यह है की इसकी reading एकदम accurate होता है।

इन्हे भी पढ़े

Bar-coding RFID and me Difference kya hai?

RFID

RFID reader के जरिये एक साथ बहुत सारे  RFID tags को scan कर सकते हैं।

RFID technology से data को automatic collect कर सकते हैं पर bar-coding में data को manual collect किया जाता है। 

पर RFID में लाइन ऑफ़ विज़न की जरुरत नहीं पड़ती।

सूरज की करने और बारिश से होने वाली दिक्कत को RFID संभाल सकता है।

RFID technology bar-coding से अधिक safe और secure होता है।

metals(धातु) और Liquid (तरल) RFID signal को affect कर सकता हैं।

यह technology bar-coding के जैसे accurate और reliable नहीं होता। 

इस RFID reader  की कीमत bar-coding से ज्यादा होता है।

RFID technology को install करना कठिन और time consuming होता है।

BAR-CODING

Bar-coding से केवल एक साथ एक ही item या product को scan कर सकता है।

Bar-coding  के जैसे RFID reader में हर product को (item by item) scan करने की जरुरत नहीं पड़ती।

Bar-coding में line of vision की जरुरत पड़ती है मतलब product के ऊपर चिपका हुआ tag को reader के सामने लाना पड़ता है।

एसा नहीं है .

एसा नहीं है

एसा नहीं है

metals(धातु) और Liquid (तरल) barcode को affect नहीं करता ।

यह technology accurate और reliable होता है ।

bar-coding की कीमत कम होता है।

installation प्रक्रिया सरल है .

RFID ka upayog kahaan pe hota hai ?

Products को track करने के लिए RFID का इस्तेमाल किया जाता है। यह एक बेहतरीन technology है जिसे बड़ी आसानी से एक साथ कई सारे प्रोडक्ट को track कर सकते हैं।

इस technology को Bar-coding के बिकल्प के रूप में देखा जा रहा है। book store हो या warehouse RFID का उपयोग हर जगह प्रभावी तरीके से किया जा रहा है।

इस technology के जरिये toll plaza में बिना कतार में लगे टोल पेमेंट बड़ी आसानी से हो जाता है। इसीलिए अभी India में इस टेक्नोलॉजी को देश के सारे राजमार्ग में toll payment के लिए किया जा रहा है। Fastag इसी RFID technology को इस्तेमाल करता है टोल गेट में टोल टैक्स collect करने के लिए।

Uses of RFID

  1. कुछ बिकसित देश में RFID technology को पासपोर्ट(passport) में इस्तेमाल किया जा रहा है ताकि visitors को ट्रैक(track) किया जा सके। यह एक बेहतरीन कदम है जिसे यह पता चल जाता हे की कौन देश में आ रहा है और कौन देश से बहार जा रहा है। America, Japan, Norway and Spain जैसे country RFID technology को अपने passport में use कर रहे हैं।
  2. RFID Chip  को जानवरों(animals) के ऊपर लगाया जा रहा है ताकि उनके गतिबिधि पर नजर रखा जा सके। इसकी  बजह से जानवरों पर होने वाला research में काफी मदत मिलता है। जानवरों सहित इंसानों में भी यह चिप लगा के उनको भी track किया जा सकता है।  
  3. Library (पुस्तकालय)में RFID का भरपूर इस्तेमाल होती है जिसे हम बड़ी आसानी से किताबें ढूंढ सकते हैं और books की चोरी को रोक सकते हैं।
  4. shipping कंपनी में RFID का इस्तेमाल होता है बड़े बड़े सामान की आबाजाही को ट्रैक करने के लिए। बड़े बड़े eCommerce कंपनी अपने सामान का shipment को देख रेख करने के लिए इस RFID tag का इस्तेमाल करते हैं। इस technology के बजह से इन e Commerce companies अपने सामान आबाजाही को ट्रैक करते हैं।

RFID tags ke prakaar kya hai?(Types of RFID tags)

RFID टैग्स को आम तोर पे तीन श्रेणियों में बांटा जा सकता उनमे इस्तेमाल किये जानेवाला frequency के आधार पे। जैसे

निम्न आवृत्ति(Low frequency) (LF), 30 kHz to 300 kHz

उच्च आवृत्ति(High frequency) (HF) 3 to 30 MHz

अति-उच्च आवृत्ति(Ultra High frequency) (UHF) 300 MHz to 3GHz

हर RFID तीन तरह के होते हैं जैसे Active powered , Passive powered और semi-passive (battery powered) होता है।

निष्कर्ष(Conclusion)

आशा करता हूँ की आज की यह लेख RFID ka full form kya hai आपको पसंद आयी होगी। आज मेरी लेख से आपको RFID के बारे में सारि जानकारी मिल गयी होगी। अगर पोस्ट अच्छा लगा है दोस्तों के साथ शेयर जरुर करना कोई सुझाब हो तो बताना । धन्यवाद।

FAQs-

Kya swasth ke liye RFID hanikarak hai ?

बिलकुल नहीं, आरएफआईडी स्वास्थ्य के लिए खराब हानिकारक बहिन है।  RFID के अध्ययनों से यह पता चला है कि RFID tag से शरीर में कुछ नकारात्मक परिणाम नहीं होते हैं।

Kya RFID tags ko reuse kiya ja sakta hai ?

हाँ हम RFID tags को reuse कर सकते हैं। इसकेलिए आपको पहले स्टोर किया हुआ डाटा को delete करना पड़ेगा। इसके बाद हम नए डाटा को entry करके इस टैग को  पुनः इस्तेमाल कर सकते हैं।

RFID kitni dur tak kam karta hai?(How far does RFID work?

RFID की स्कैन करने की capacity 12 meter या 37 feet तक होता है। पर अभी नया integrated circuit के इस्तेमाल से इसकी scanning capacity 15  मीटर तक हो सकती है।

Kya koi smart phone or I phone RFID tags padh sakta hai?

जिस फ़ोन में NFC(near-field communication) hardware और passive high frequency RFID का इस्तेमाल होता है वही RFID tags को read कर सकता  है।  पर उसकी दुरी बहुत ही कम होता है । आमतौर पे इसकी दुरी 4 centimeter और उससे कम  होता है। 

8 thoughts on “RFID ka full form kya hai?kaise kam karta hai ?”

  1. Pingback: MLM ka full form kya hai?Paisa kamane ka Ramban tarika - Hindihe

  2. Pingback: ILP kya hai?kya hai ILP ka full form?ILP Kaise apply karen? - Hindihe

  3. Pingback: Atomy kya hai?jane kya kardiya Atomy ne - Hindihe

  4. Pingback: Goodworker app kya hai Kaise install kare - Hindihe

  5. Pingback: Upstox kya hai?Kaise paise kamaye Upstox se? - Hindihe

  6. Pingback: ISKCON ka full form kya hai? - Hindihe

  7. Pingback: Jitsi meet kya hai? Kaise install kare laptop or mobile pe - Hindihe

  8. Pingback: Android emulator kya hai?Best Android Emulator 2021 - Hindihe

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *